Bundelkhand UP

मध्यकाल के वास्तविक (पौराणिक ) यादव क्षत्रियों (राजपूतों )का ऐतिहासिक शोध–

मध्यकाल के वास्तविक यादवा चन्द्रवंशी क्षत्रियों (राजपूतों ) का ऐतिहासिक शोध—– वास्तविक (पौराणिक )यादवा क्षत्रिय (राजपूत ) चंद्रवंश के ययाति के पुत्र यदु वंशधर हैं। मनु के चार पुत्रों इक्ष्वाकु, प्रांगु, सुद्युम्न तौर शर्वाति ने भारत में सबसे पहले आर्य -राज्य स्थापित किये । यह घटना लगभग 2000 ई. पूर्व की है। इक्ष्वाकु के वंश …

मध्यकाल के वास्तविक (पौराणिक ) यादव क्षत्रियों (राजपूतों )का ऐतिहासिक शोध– Read More »

मथुरा के यदुवंशी जादों (पौराणिक यादव ) क्षत्रिय राजवंश का ऐतिहासिक अध्ययन–

मथुरा के यदुवंशी जादों (पौराणिक यादव) क्षत्रिय राजवंश का ऐतिहासिक अध्ययन— क्षत्रिय वर्ण से सम्बन्ध ब्रज प्रदेश में प्राचीन काल से निवास करने वाली जातियों में यादवों  (आधुनिक जादों ,भाटी , जडेजा ,बनाफर , जाधव , चुडासमा , वाडियार ) का नाम उल्लेखनीय है । यादवों के मूल पुरुष यदु थे , जिनके नाम पर …

मथुरा के यदुवंशी जादों (पौराणिक यादव ) क्षत्रिय राजवंश का ऐतिहासिक अध्ययन– Read More »

करौली के महानतम शासक एवं संस्थापक महाराजा अर्जुनदेव तथा उनकी संतति —

करौली महानतम शासक एवं संस्थापक महाराजा अर्जुनदेव तथा उनकी संतति — तिमनगढ़ पतन के बाद वहां के यदुवंशी शासक कुँवरपाल का कोई भी उत्तराधिकारी उस समय यह दुर्ग एवं अपना खोया हुआ पैतृक राज्य पुनः प्राप्त नहीं कर सका।इस कारण सन 1196 ई0 से 1327ई0 तक का इस वंश का तिथिक्रम संदिग्ध है तथा उपलब्ध …

करौली के महानतम शासक एवं संस्थापक महाराजा अर्जुनदेव तथा उनकी संतति — Read More »

मध्यकालीन त्रिभुवनगिरि दुर्ग का गौरवशाली स्वर्णिम युग:सांस्कृतिक एवं कलात्मक धरोहर का प्रतीक —

मध्यकालीन  त्रिभुवनगिरि दुर्ग का गौरवशाली स्वर्णिम युग : सांस्कृतिक एवं कलात्मक धरोहर का प्रतीक — त्रिभुवनगिरि दुर्ग –इस मध्यकालीन दुर्ग का निर्माता महाराजाधिराज त्रिभुवनपाल या तिहुणपाल के नाम पर ही “त्रिभुवनगिरि “रखा गया है ।इस दुर्ग को ताहनगढ़ , तिमनगढ़ ,थनगढ़ , थनगिरि आदि नामों से भी जाना जाता है ।जैसवाल जैन जैसलमेर का त्याग …

मध्यकालीन त्रिभुवनगिरि दुर्ग का गौरवशाली स्वर्णिम युग:सांस्कृतिक एवं कलात्मक धरोहर का प्रतीक — Read More »

The glorious historical account of the Lunar race Yadu Rajputs —

The glorious historical account of the Lunar race Yadu Rajputs — Yadus /Jadus  ,Yadavas/ Jadhavas, Yaduvansis,Jaduvansis  ,Yadu-Bhatti ,Jadeja, Jadon /Jadaun Rajput’s  Origin History   —– Chandravansh (Somavansha /Induvansha)—– The Lunar race.—- The lineage or race which claims descent from the moon. It is divided into two great branches, the Yadavas and Pauravas, respectively , descended from …

The glorious historical account of the Lunar race Yadu Rajputs — Read More »

The Ancient Yadavas /Yaduvansis Lunar race Kshatriya’s(modern Jadon /Jadaun ) of Bayana and Tribhuvangiri —-

The Ancient Yadavas /Yaduvansis of  Lunar race Kshatriyas (modern Jadon /Jadaun ) of Bayana( Santipur /Sripatha) andTribhuvangiri(Tahangarh /Timangarh /Thangarh)——- The Jadons Kshatriyas ,of course ,claim descent from Krishna,the acknowledged Lord of Mathura after the death of Kansa.Their early history ,therefore ,consists of a number of the popular tales of Krishna derived from the Mahabharta and the Puranas. Some …

The Ancient Yadavas /Yaduvansis Lunar race Kshatriya’s(modern Jadon /Jadaun ) of Bayana and Tribhuvangiri —- Read More »

Yadu -Vansh History — ( Puranic Yadavas or Modern Jadons ) Lunar race Dynasty of Kshatriyas

Yadu -Vansh History —  ( Puranic Yadavas or Modern Jadons ) Lunar race  Dynasty  of Kshatriyas— Yadu ,the Progenitor of the Jadon clans Panini ( C.500B.C ) in this Ashtadhyayi mention some of the Yadu clans and their polity.The unable among them are the Vrsni-Andhkas (VI.2.34.) who are referred in the connection with the Rajanya …

Yadu -Vansh History — ( Puranic Yadavas or Modern Jadons ) Lunar race Dynasty of Kshatriyas Read More »

जादों /जादौन (हिन्दी शब्द ) /पौराणिक यादव (संस्कृति शब्द )चंद्रवंशी क्षत्रियों का ऐतिहासिक शोध —

जादों /जादौन (हिन्दी ) /पौराणिक यादव (संस्कृति भाषा ) चंद्रवंशी क्षत्रियों का ऐतिहासिक शोध— ब्रज की इस प्राचीन जाति के लोग चंद्रवंशी क्षत्रिय हैं इनका मूल पुरुष यदु था, जिसके नाम पर इस जाति के लोग यदुवंशी या यादव कहे जाते थे , जो आजकल  जादों क्षत्रिय (राजपूत ) कहे जातें हैं । कैसे कहलाये …

जादों /जादौन (हिन्दी शब्द ) /पौराणिक यादव (संस्कृति शब्द )चंद्रवंशी क्षत्रियों का ऐतिहासिक शोध — Read More »

History of Banaphar Lunar Race Jaduvanshi (Yaduvanshi )Kshatriya’s of Mahoba —

History of  Banaphar Lunar Race Jaduvanshi (Yaduvanshi ) Kshatriya’s of Mahoba — A tribe of Yaduvanshi Rajputs inhabiting the country district , a few miles from Benaras .They are found in the direction of Mariahu , a thriving town on the borders of Wish .This tribe is not confined to Benares , but is scattered …

History of Banaphar Lunar Race Jaduvanshi (Yaduvanshi )Kshatriya’s of Mahoba — Read More »

History of Yaduvanshi Lunar Race Tank or Tak Jadon Rajput of Mainpuri district of Uttar Pradesh —

History of Yaduvanshi Lunar Race Tank or Tak Jadon Rajputs of Mainpuri district in Uttar Pradesh-— Towards the close of the 7th or the beginning of the 8th  century  ,King Yashovarman of Kannauj (circa 690-740 A.D.) rose to power and became the Lord of the whole of Northern India.He seems to have conquered the kingdom …

History of Yaduvanshi Lunar Race Tank or Tak Jadon Rajput of Mainpuri district of Uttar Pradesh — Read More »

Pin It on Pinterest

Translate »
error: Content is protected !!